Thursday, December 2, 2021
HomeHealthपीरियड्स के दौरान मिजाज क्यों होता है चिड़चिड़ा, कैसे करें मैनेज

पीरियड्स के दौरान मिजाज क्यों होता है चिड़चिड़ा, कैसे करें मैनेज

महीने के वो पांच दिन महिलाओं के लिए बेहद मुश्किल होते हैं। पीरियड्स शारीरिक समस्याओं के साथ-साथ महिलाओं को मानसिक रूप से भी प्रभावित करता है। इस अवधि के दौरान महिलाओं में रक्तस्राव, ऐंठन, थकान, सूजन और पाचन समस्याओं के अलावा मिजाज भी एक आम समस्या है। अक्सर देखा जाता है कि पीरियड्स के दौरान महिलाओं का स्वभाव चिड़चिड़ा हो जाता है, वे छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करने लगती हैं और कई बार चिल्लाने लगती हैं।

पीरियड्स में होने वाले दर्द के लिए प्रोस्टाग्लैंडीन नाम का हॉर्मोन जिम्मेदार होता है। इस दौरान दर्द इतना ज्यादा होता है कि यह रोजमर्रा के कामकाज और मूड को प्रभावित करता है। इसके अलावा अन्य हार्मोनल परिवर्तनों के कारण भी इन दिनों महिलाओं का मूड स्विंग होता है। हालांकि, ऐसे कुछ तरीके हैं जिनसे इन कठिन समय के दौरान मिजाज को प्रबंधित किया जा सकता है।

पीरियड्स के दौरान होने वाले चिड़चिड़े मिजाज को दूर करेगा व्यायाम

पीरियड्स के दौरान होने वाले चिड़चिड़े मिजाज को दूर करेगा व्यायाम

पीरियड्स के दौरान दर्द और मांसपेशियों में खिंचाव आदि की समस्या होती है, लेकिन इसके बावजूद आपको इस समय व्यायाम करना चाहिए। ऐसा नहीं है कि एक्सरसाइज का मतलब घंटों भारी वर्कआउट करने के बाद आपको पसीना आना है। आपको योग, ध्यान, स्ट्रेचिंग जैसे व्यायामों को अपनाना होगा। यकीन मानिए इससे आपके मूड में काफी फर्क पड़ेगा। यदि आप व्यायाम करते हैं तो मांसपेशियों में अकड़न भी समाप्त हो जाएगी और आपके शरीर में एंडोर्फिन हार्मोन का स्राव भी बढ़ जाएगा। मूड को बेहतर करने के साथ-साथ यह हार्मोन अच्छी नींद लेने में भी मदद करता है।

पीरियड्स के दौरान होने वाले चिड़चिड़े मिजाज को दूर करेगा स्वस्थ भोजन

पीरियड्स के दौरान होने वाले चिड़चिड़े मिजाज को दूर करेगा स्वस्थ भोजन

पीरियड्स के दौरान आपको अपने आहार में फाइबर से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करना होता है। खाने में हरी सब्जियों को जगह दें। वेजिटेबल सूप और स्मूदी पिएं, जिससे शरीर को ताजगी मिलती है और एनर्जी भी बढ़ती है। आपको अधिक से अधिक मैग्नीशियम युक्त भोजन करना होगा। केला खाएं, इसमें भरपूर मात्रा में मैग्नीशियम होता है। ये सभी चीजें पचने में भी आसान होती हैं इसलिए आपका मूड भी इससे बेहतर होता है।

पीरियड्स के दौरान होने वाले चिड़चिड़े मिजाज को दूर करेगा स्वच्छता

आपको पीरियड्स के दौरान हाइजीन का भी खास ख्याल रखना होता है। आपको अपना सैनिटरी पैड, मेंस्ट्रुअल कप या टैम्पोन दिन में कम से कम दो बार बदलना चाहिए। इसके साथ ही प्राइवेट पार्ट की साफ-सफाई का भी ध्यान रख अपना ख्याल रखें
पीरियड्स के दौरान आपको ऐसे काम करने चाहिए जो आपको करना पसंद हो। जैसे किताबें पढ़ना या पेंटिंग करना या शॉपिंग करना। बाहर जाने से डरो मत, पार्क में जा वॉक कर सकते है, इससे आप का शेयर भी एक्टिव रहेगा और मूड भी अच्छा रहेगा। इस बात का ध्यान रखना होगा कि आपको नकारात्मक लोगों से दूरी बनाकर रखनी होगी ताकि आपका मूड खराब न हो।

आशा करती हूँ आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा होगा और कुछ न कुछ सीखने को मिला होगा। इस प्रकार के स्वास्थ्य एवं नारी सशक्तिकरण सम्बंधित आर्टिकल्स के लिए हमारे ब्लॉग के साथ बने रहे और इसे अपने साथियों के साथ जरूर शेयर करें।
धन्यवाद

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments